1

स्वप्न; एक प्रश्न


स्वप्न; एक प्रश्न 


मैं  वर्तमान में मृत
या अजन्मा हूँ
और भविष्य में जी रहा हूँ
और तुम
मेरे लिए तुम्हारा जीवन शाश्वत है
या तो मैं,
अपने शरीर से विलग
भटकती आत्मा हूँ
जिसे तुम
अपनी बांहों में पाने में असमर्थ हो
या, मैं ही तुम्हें अपने स्वप्न से विलग कर
अपने आलिंगन में नहीं भर सकता
सत्य क्या है?
मुझे समय चाहिए
अर्थ समझने के लिए
अपने स्वप्न का.


*********

1 टिप्पणियाँ:

वन्दना ने कहा…

kya baat kahi hai .........atyant gahan.

एक टिप्पणी भेजें

WELCOME